१०. मित्रता

(खेल के मैदान में बातचीत करते हुए बच्चे ।)

अर्नाल्ड : नमस्ते ! मेरा नाम अर्नाल्ड है। मैं छतरी तालाब के सामने रहता

तबस्सुम : मित्रो मेरा नाम तबस्सुम है। मैं पाठशाला के समीप रहती हूँ ।

क्षमा :सुनो ! मैं क्षमा हूँ । बाजार के पास रहती हूँ ।

विहंग : नमस्ते! मैं विहंग, बस स्टैंड के पीछे रहता हूँ।

अर्नाल्ड: मेरे घर में दादा जी, माता जी, पिता जी और छोटी बहन हैं।

तबस्सुम : मेरे घर में माता जी, पिता जी और बुआ जी रहती हैं। बुआ जी हमें ज्ञान-विज्ञान की रोचक कहानियाँ सुनाती हैं।

विहंग : मेरे पिता जी वकील हैं। वे न्यायालय के किस्से सुनाते हैं।

अर्नाल्ड : मेरी माता जी सरकारी अस्पताल में नर्स हैं। तुम्हारी माता जी क्या करती हैं ?

क्षमा: मेरी माता जी सरपंच हैं। कल मेरी बहन का जन्मदिन है, तुम सब जरूर आना ।

तबस्सुम : हाँ-हाँ, जरूर। मैं तुम्हारी मदद के लिए आती हूँ ।

विहंग : आज से हम सब अच्छे मित्र हैं।